रविवार, 15 नवंबर 2009

सूत्र-17


यदि भलाई करना आपकी मजबूरी है तो ही आप भले आदमी हैं

16 टिप्‍पणियां:

  1. ' भलाई और मजबूरी '
    .......और इस पर भी ' भलाई ' ( ! )

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्य वचन।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. bhalai karna majburi nahi savbhav hona chahiye,baki aapki marji.narayan narayan

    उत्तर देंहटाएं
  4. " sahi kaha aapne "

    " satay "

    ----- eksacchai {AAWAZ}

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी टिप्पणियां दें

    उत्तर देंहटाएं
  6. issi tarah aage badhte rahe ....kafila banta chala jayega...
    mere blog par bhi dastak dain....

    jai HO mangalmay ho

    उत्तर देंहटाएं
  7. अस्पष्ट, मज़्बूरी में किया कोई काम, काम नहीं होता, सिर्फ़ मज़्बूरी होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. Bhalai karne men kya mazbooree ...? our karna hi hai to pratisad ki apeksha kyon...? neki kar dariya men dhal...

    उत्तर देंहटाएं
  9. Bada achha laga padhke...

    http://shamasansmaran.blogspot.com
    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं