बुधवार, 30 अक्तूबर 2013

सूत्र - 151


कर्म से ही रस की निष्पत्ति संभव है.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें