शनिवार, 12 जून 2010

सूत्र-87


सृष्टि का सबसे पहला व्यक्तिवादी विचारक ईश्वर रहा होगा, यदि 'वह' है तो.

7 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है.... हमेशा की तरह लाजवाब..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सृष्टि का पहला सिलिसला पदार्थ से प्रारंभ हुआ माना जाना चाहिये ,कुछ कणो मे
    भी यह शक्ति हो सकती है जिसे देखकर मनुष्य ने विचार करना प्रारंभ किया हो ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे दुख है कि इस सूत्र को सही तरीके से समझा नहीं गया। यह दरअसल ईश्वर पर तंज़ है। उसकी इस असमान और पीड़ित दुनिया को देखकर लगा कि वह भी यदि 'है' तो, लेसेस फेयर का हिमायती होगा... फिर इस दुनिया में समानता की कल्पना भी कैसे की जा सकती है?

    उत्तर देंहटाएं