शनिवार, 19 दिसंबर 2009

सूत्र-43


हम कर्म करने के लिए अभिशप्त हैं

3 टिप्‍पणियां:

  1. कर्म के इस वेग में कुछ उपकार होना चाहिए
    कर्म ही अपने भाग्य का आधार होना चाहिए
    रत्नेश त्रिपाठी

    उत्तर देंहटाएं
  2. हैं अभिशप्त पर
    अभिशाप को जीते
    हाँ जीते -
    अवधूत हैं हम !

    उत्तर देंहटाएं